.
Skip to content

सुन प्रीतम की बात….याद रखें सभी

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कुण्डलिया

November 3, 2017

सुन प्रीतम की बात..कुंडलिया छंद
?????????????
सभी के लिए ही गलत,धारणा लिए फिरें।
काँटें हैं वो लोग रे,फूल कों चोट करें।।
फूल को चोट करें,काहें के इंसान हैं।
इंसानी-भेष में,वो भैया शैतान हैं।
सुन प्रीतम की बात,बुराई न करना कभी।
नेकी सदा जीवित,चाहें जिसे सदा सभी।
?????????????
रूप तेरा खिली धूप,मानो चाँद स्वरूप।
रूप पर जान छिड़कते,ये कवि आशिक भूप।।
ये कवि आशिक भूप,सौंदर्य ख़ुदा का जाप।
आगे हैं सब फ़ेल,प्रसद्धि धन धर्म प्रताप।
सुन प्रीतम की बात,यौवन ठण्डा जल-कूप।
पागल मन को करे,फूल-सा खिला ये रूप।
?????????????
जलोगे न तरक्की से,ऐसा इरादा कर।
आदमी देख ख़ुशी हो, यार ये वादा कर।।
यार ये वादा कर,दिल को तसल्ली होगी।
क़सम से कामयाब,ज़िंदगी अगली होगी।
सुन प्रीतम की बात,प्यार में यार फलोगे।
नफ़रत में समझना,तुम धू-धू कर जलोगे।
?????????????
राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
?????????????
सुन प्रीतम की बात…
हृदय कोरा काग़ज़ है,अपना नाम लिखदे।
जान से ज्यादा चाहूँ,प्यार की शिक्षा दे।।
प्यार की शिक्षा दे,मैं सँवर जाऊँगा रे।
दिन हो या रात ही,यार गुण गाऊँगा रे।
सुन प्रीतम की बात,तुझको याद करूँ नित्य।
उर्वशी-सी जाना,बसी तू सनम के हृदय।

Author
Recommended Posts
कुंडलिया - 3
तब हृदय में लगी चोट,देखा चूरन नोट। एटीएम की खूबी,या कर्मी का खोट।। या कर्मी का खोट,हुई बंधु खटिया खडी। बिन बुलाए ही ये,मुसीबत है... Read more
3.सुन प्रीतम की बात....??
सुन प्रीतम की बात.. ***************************** 1..कुंडलिया धुन हृदय जगे गर तो,सफर आसान बने। हर कार्य रुचिकर लगता,रुचि से पहचान बने।। रुचि से पहचान बने,बिन थके... Read more
कुंडलिया-3... सुन प्रीतम की बात(3...कुंडलिया....3)
सुन प्रीतम की बात...कुंडलिया... छंद ***************************** 1-कुंडलिया सोच समझ फैसला लो,पछतावा न होगा। व्यर्थ गवाया पल अगर,वो आया न होगा।। वो आया न होगा,कीजिए कितने... Read more
सुन प्रीतम की बात....
*********** मेरे आशियाने में,प्यार सिवाय कुछ ना। छोड चाहे तू अपना,ये अध्याय कुछ ना।। ये अध्याय कुछ ना,कर्म बाजी मारें हैं। अपनों के चेहरे,दिखें हार... Read more