"सुख ही बांट"

सुख ही बांटे जात हैं, दुःख ना सांझा होत
होता तभी प्रकाश है, जब जलती है जोत
शीला गहलावत सीरत
चण्डीगढ़, हरियाणा

2 Likes · 18 Views
सपने देखना कैसे छोड़ दूं सजाये अरमान कैसे तोड़ दूं हिन्दी, हरियाणवी में ग़ज़ल, गीत,...
You may also like: