.
Skip to content

सुख ले लेता है ब्याज

Vindhya Prakash Mishra

Vindhya Prakash Mishra

कविता

October 13, 2017

हौसला हिम्मत को ताकत देता है
घनी रात से गगन सुबह को देता है
दर्द के बीतने का इंतजार है मुझको
पता ईश्वर दुख के बाद सुख भी देता है
परिवर्तन है प्रकृति का नियम शाश्वत है
सुख के बदले मे बढा कुछ ब्याज लेता है

Author
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra Teacher at Saryu indra mahavidyalaya Sangramgarh pratapgarh up Mo 9198989831 कवि, अध्यापक
Recommended Posts
सच्चा सुख
सुख पाने की चाह में, भटक रहा इन्सान। विरले ही पाते इसे, बहुतेरे है अनजान। बढ़ती सुविधा सामग्रियॉ, इन्द्रिय भोग विलास। इन्हें ही सुख मानकर,... Read more
ऐसा भी कहाँ, के दिल तोड़ के रो लेता
ऐसा भी कहां, के दिल तोड़ के रो लेता, जरा मुस्कुराता, और रो लेता, कोई बात रखता, दिलासा देता, दिल को, दिल, हाल ए दिल... Read more
कवि नहीं मे
कवि नहीं मे कोई बस तुकबंदी कर देता हु कुछ आपनी कह देता हु कुछ उनकी कह देता हु प्रेम बाग से प्रेम पोध से... Read more
{{{{{ कवि }}}}}
[[[[ कवि ]]]] ###_दिनेश_एल०_जैहिंद सोई आत्माअों को जो झंकृत कर दे वही झंकार है कवि ! सोए शौर्य को जो जगाके जोश भर दे वहीं... Read more