.
Skip to content

सुख की पावन चूल रही

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

गज़ल/गीतिका

February 19, 2017

(विधा-बाल गीतिका)

नाना -नानी आनंद मगन, घररूपी बगिया फूल रही |
सब हँसते -गाते प्रीत रंग के सुख की पावन चूल रही |

आजाद हिंद की हर उमंग दिल धक-धक झूला पवन संग |
ऊपर को बढ़ता, लौटा तो, भय-गति पूरी प्रतिकूल रही|
नाना -नानी आनंद मगन,घररूपी बगिया फूल रही|
सब हँसते गाते प्रीति रंग के सुख की पावन चूल रही|

मामा आए, पापा आए, माँ को भी संग-संग लाए|
सद्प्रीति रंग, छाई उमंग ,प्रभु माया भी अनुकूल रही |
नाना-नानी आनंद मगन घररूपी बगिया फूल रही|
सब हँसते-गाते प्रीति रंग के सुख की पावन चूल रही|

नित पाठ राष्ट्रमय ज्ञान हेतु ,औ प्रीतिभाव विज्ञान हेतु|
जीवन उल्लास भरा मधुरिम, उर में आनंदी मूल रही |
नाना-नानी आनंद मगन ,घररूपी बगिया फूल रही|
सब हँसते -गाते प्रीत रंग के सुख की पावन चूल रही|

बृजेश कुमार नायक
‘जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
शीत लहर का कहर
शीत लहर का असर दिख रहा सूरज कुहरे की जंग हो रही। सूरज की देख आंख मिचौली प्रकृति भी सारी दंग हो रही शीतलता अब... Read more
प्रकृति की गोद
आज आए हम प्राकृति की गोद में, मस्ती और उमंग छाई रोम रोम में, कितना मनोरम, है कितना सुखद, मिट गए मन के सारे खेद,... Read more
फागुन
विषय-फागुन तिथि-९-३-२०१७ सखी ! फागुन मास है आयो री। संग मधुर सरस बरसायो री। समा भयो बड़ा मनभावन री। चहु ओर है सरसों छाय रही।... Read more
स्वतंत्रता की अलख
लहराये तिरंगा भवन भवन, भारत माता को नमन नमन, गीतों से गूंज रहा गगन गगन, गा रहा जन होकर मगन मगन, हर जुबां पर है... Read more