Apr 21, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

सुख की पहचान

????
काश सुख की होती पहचान।
होता उसका भी एक दुकान।
?
खुश होता फिर हर इन्सान।
फिर ना होता कोई परेशान।
?
काश होता सुख का कोई पेड़।
तोड़ लाता लगाता उसका ढेर।
?
फिर ना कोई गम में रोता ढोता।
फिर खुशी से हर चेहरा मुस्कुराता।
?
बैठे-बैठे मैं ये सब सोच रही थी।
मन संग मन की पाती बाँच रही थी।
?
कोई तो बतला दे इसका सच।
दुख से कैसे जाये सब बच?
?
अपने अंतरमन मैं टटोल रही थी।
दिमाग की गठरी खुद खोल रही थी।
?
तभी अचानक कोई सब बोल गया।
मन की सारी उलझन खोल गया।
?
कहा कि मैं हूँ तेरे ही अंदर में।
तुम्हारे ही मन रूपी समंदर में।
?
मैं हूँ तुम्हारे हर एक अहसास में।
क्यों भटकते हो बाहर प्यास में।
?
मैं हूँ बच्चों की किलकारी में।
संतोष की हर एक प्याली में।
?
दुख के बाद सुख लगता प्यारा।
समझो तुम समय का ये इशारा।
?
इन्सान ने साधन लाख जुटाया।
पर सुख को खरीद ना पाया।
?
दुख से ही सुख की कीमत है।
सुख से दुख में रहती हिम्मत है।
?
जीवन सुख दुःख का है जोड़ा।
सबको मिलता है थोड़ा-थोड़ा।
????—लक्ष्मी सिंह ??

152 Views
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी सिंह
826 Posts · 260.1k Views
Follow 44 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: