23.7k Members 49.8k Posts

सुंदरी सवैया

सुंदरी सवैया

सबका वह पालनहार सदा
जग का भरपेट भला करता है।
हम तो तुम तो धन ही हरते
वह तो सबके दुख को हरता है।
मरते सब हैं जनमे जग में
वह ना जनमा वह ना मरता है।
सतकर्म अधर्म किए जितने
उनका कर योग वही धरता है।।

गुरू सक्सेना, नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)

Like 2 Comment 0
Views 907

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
guru saxena
guru saxena
75 Posts · 7.5k Views