Dec 3, 2017 · घनाक्षरी
Reading time: 1 minute

सुंदरी सवैया

सुंदरी सवैया

सबका वह पालनहार सदा
जग का भरपेट भला करता है।
हम तो तुम तो धन ही हरते
वह तो सबके दुख को हरता है।
मरते सब हैं जनमे जग में
वह ना जनमा वह ना मरता है।
सतकर्म अधर्म किए जितने
उनका कर योग वही धरता है।।

गुरू सक्सेना, नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)

2 Likes · 1089 Views
guru saxena
guru saxena
104 Posts · 8.5k Views
Follow 3 Followers
You may also like: