सीसीटीवी

सीसीटीवी
=======
बिना आँखों के
सबकुछ देखती,
एक पल के लिये भी न
अपनी छुपी आँखों से
कुछ भी ओझल होने देती।
बड़ी शातिर है ये
इसके आगे अच्छे अच्छे सूरमाओं की
दाल तक नहीं गलती।
हर पल, हर समय,हर मौसम में
निर्बाध अपने कर्तव्य पालन में
तत्पर रहती।
मौन धारण किये चुपचाप
अपनी परिधि में एक पत्ते तक को
नजरों से न
ओझल होने देती।
मौके बेमौके अच्छे अच्छों को
ये नंगा कर
सत्य सामने रख देती।
अपराधी गुण्डे मवाली
इससे बहुत घबराते,
इससे दूर रहने के हथकंडे
सदा ही आजमाते।
सच की चोरी ये नहीं करती
गलत बयानी से सदा बचती,
आमजन मानस के बीच ये
गर्व से सीसीटीवी कहलाती।
✍सुधीर श्रीवास्तव

Like 4 Comment 2
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share