.
Skip to content

**** ‘सीख’ होती है अनमोल*****

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

February 6, 2017

*पंछी से सीखा है मैंने
ऊँचें उड़ना चहचहाना |

*सूरज से सीखा है मैंने
नई सुबह की किरण फैलाना |

*ऊँचे नभ-गगन से सीखा
शीतलता का एहसास पुराना|

*अपनी इस धरती से सीखा
ममता का आँचल फैलाना |

*सागर से सीखा है मैंने
हर नैया को पार लगाना |

*सीखा उसकी लहरों से है
बढ़ते जाना बढ़ते जाना |

*उस बहती नदिया से सीखा
दुख को कैसे पार लगाना |

*सीखा उस ऊँचे पर्वत से
शीश उठाकर जीते जाना

*पथरीली राहों से सीखा
मुश्किल में मंजिल को पाना |

*राह के उस पथिक से
सीखा मंजिल को आसान बनाना |

*लाखों उन तारों से सीखा
रोशन होकर टिम टिमाना |

*उस चंदा से भी सीखा है
घटना,बढ़ना और चमकाना |

*काली बदरी से सीखा है
सुख की वर्षा करते जाना |

*वर्षा की बूँदों से सीखा
रहागीर की प्यास बुझाना |

*मौसम से सीखा है मैंने
आना-जाना सुख बरसाना|

*सावन के झोंकों से सीखा
चलते-जाना कभी न रूकना |

*सावन के झूलों से सीखा
परदेसी को पास बुलाना |

*अपने देश से सीखा मैंने
हाथ मिलाकर कदम बढ़ाना |

*उस परदेसी से भी सीखा
अपने देश की शान बढ़ाना |

*धरती के मानव से सीखा
सब धर्मों का आदर करना |

*सीखा हर छोटे बच्चे से
भेदभाव को दूर भगाना |

*एक है हम और एक रहेंगे
मिलजुल कर हम साथ चलेंगे |

*****कहे नीरू ये आज सभी सेे,
सीख कहीं से भी हो प्राप्त,******
******रखो उसे तुम सहज संभाल |

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
हारना नहीं सीखा
चखे हैं जीवन के स्वाद सभी कोई फीका है कोई तीखा सबके मेल से बनता अनुभव मोल है बहुत सभी का अनुभव से ही सीखा... Read more
माँ  रोते  में  मुस्कुराना  तुमसे  सीखा है
माँ रोते में मुस्कुराना तुमसे सीखा है कारे दुनियाँ का ताना-बाना तुमसे सीखा है गर्दिश- ए- दौरा तो आनी जानी शै ज़िंदगी को गले लगाना... Read more
सीख लिया है।
Neelam Sharma गीत Jun 3, 2017
ज़ख्मों पर पैमंद। सुनो, आजकल मैंने ज़ख्मों का मेकप करना सीख लिया है। तेरी भूली बिसरी यादों से मैंने ब्रेकअप करना सीख लिया है। आंखों... Read more
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है
मुश्किल कितनी भी आ जाये, तुमको ना घबराना है बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है मन हारा तो जग हारे तुम मन... Read more