.
Skip to content

सीख लिया है।

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

June 3, 2017

ज़ख्मों पर पैमंद।

सुनो,
आजकल मैंने ज़ख्मों का
मेकप करना सीख लिया है।
तेरी भूली बिसरी यादों से मैंने
ब्रेकअप करना सीख लिया है।

आंखों में तैरते एकाकीपन को,
मुस्कान से ढकना सीख लिया है।
हां, मैंने अपने ज़ख्मों का कुछ
मेकप करना सीख लिया है।

जो भर न सके किसी औषधि से,
नहीं सूखे जड़ी-बूटियों, मरहम से।
जो तुमने दिये उन ज़ख्मों पर मैंने
खुशियों की दिखावट का
पैबंद लगाना सीख लिया है।

मैंने भी कुछ गैरों को अब
अपना बताना सीख लिया है।
नहीं देते अपने साथ यहां
है मतलबी ज़माना, सीख लिया है।
मैंने भी रोते इस दिल को
बस यूं ही बहलाना सीख लिया है।

चेहरे पर लगाकर चेहरा ज़ख्मों को
छिपाना सीख लिया है।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
जीना सीख लिया है।
बे-रंग नहीं रहेगी अब ज़िंदगी... मैंने रंग बदलना सीख लिया है कंटीले रास्तों पर चलते-चलते गिरकर संभलना सीख लिया है धूर्तो से भरी परिवेश में... Read more
जब से छोड़ा है तूने साथ
जब से छोड़ा है तूने साथ हमने संभलना सीख लिया है, मौसम के जैसा अब हमने भी बदलना सीख लिया है, जिसको देखकर तुम ओझल... Read more
जैसे-जैसे बच्चे पढ़ना सीख रहे हैं
जैसे-जैसे बच्चे पढ़ना सीख रहे हैं हम सब मिलकर आगे बढ़ना सीख रहे हैं पेड़ों पर चढ़ना तो पहले सीख लिया था आज हिमालय पर... Read more
सीख
Raj Vig कविता Sep 17, 2017
जंत्र मंत्र तंत्र सब करके देख लिया पंडित ज्ञानी ध्यानी सब पूछ के देख लिया । उनका कहना करना सब करके देख लिया लोगों के... Read more