सीख रहा हूँ

देखो अभी मैं सीख रहा हूँ
बच्चे से जवान
जवान से बूढा हो रहा हूँ
देखो अभी मैं सीख रहा हूँ।

बचपन में सीखा जो
जवानी में काम न आया
जवानी का सीखा
जवानी तक रह गया
पल पल बदलती
परिस्थितियां देख रहा हूँ
देखो अभी मैं सीख रहा हूँ।

दुनिया बदल रही है
मौसम बदल रहा है
तुम बदल रहे हो
हम बदल रहे हैं
जीने के ढंग बदल रहे हैं
रिश्तों के रंग बदल रहे हैं
बदलती दुनिया में
जीने की कोशिश कर रहा हूँ
देखो अभी मैं सीख रहा हूँ।

3 Likes · 1 Comment · 188 Views
ओम प्रकाश फुलारा ' प्रफुल्ल ' पिता - स्व0 बिष्णु दत्त फुलारा सहायक अध्यापक हिंदी... View full profile
You may also like: