कविता · Reading time: 1 minute

“सीख गई हूँ “

हाँ ,मैं पिघलना सीख गई हूँ ,
और तुम … … … … … जलना|
मैं,… … … बहना सीख गई हूँ,
और तुम … … … … … ठहरना|
सुनो!मैं मौन रहना सीख गई हूँ,
और तुम … … … … … … बोलना|
कहो ना!कुछ भी … … … … … …,
सुनूँगी, मगर … … … कहूँगी नहीं|
जलो ना! … … … … कितना भी,
पिघलूँगी,मगर … … … जलूँगी नही|
रोको ना¡ कितना भी … … … … ,
बहूँगी, मगर … … … रूकूँगी नहीं||
…निधि…

49 Views
Like
You may also like:
Loading...