Skip to content

** सिर्फ प्यार ही प्यार हो **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

मुक्तक

April 26, 2017

याद आते हैं क्यूं बीते लम्हे
जो गुजारे थे उनके साथ

रुलाते क्यूं है वो किस्से
उन बीती रातों के
जो साथ रहकर की थी बातें

आज अलग होकर क्यूं याद आती है
क्या कुछ रिश्ता हमारा – तुम्हारा था

तोड़कर जिसे ना तोड़ पाया मैं
दिल सोचकर सोचता है
यह गुनाह क्या किया था मैंने
सज़ा जिसकी मिली मुंह मोड़कर मुझको
जैसे मिले ही ना थे राहे इश्क में हम-तुम
दिल टूटा यूं दर्पण की भांति
तड़पा दिल जैसे
बिन तर्पण तड़पती हो आत्मा मेरी

आईने में आईना देखकर खुद अपना रोक कर ना रोक पाया रोना अपना

क्यूं मिलाया था दो दिलों को
यूं तोड़ने की ख़ातिर जालिमो ने

हो सकते थे दो रास्ते पहले भी
उनके देता वास्ता हूं दिलो का

यूं ठोकर मारने के वास्ते
ना मिलाये कोई दो दिलों को यूं

याद आते हैं किस्से उस बीती रातो
के हमको और रुलाते हैं हमे
मिलने के वास्ते
यूं दो दिलो को जोड़कर
तोड़कर हंसना नहीं

रिस्ते बनाने से नही बनते कहते हैं
हम हाथ जोड़कर
अख़्तियार नही कुदरत के रिस्तो
को तोड़ने का तुमको

रोने का हक़ है तुम्हे रुलाने का नही मरने का हक है मारने का नही

सजा पाने का हक है सजा देने का नही
प्यार पाने का हक है प्यार छुपाने का
नहीं

याद आते हैं वो लम्हे जी गुजारे थे उनके साथ रुलाते है उनके किस्से
बीती रातों की यादों के साथ
रिश्ता कुछ तो था हमारा-तुम्हारा भी चाहे नाम ना दे पाये हम-तुम उसको
जिसे तोड़कर भी
ना अब तक तोड़पाया हूं मैं अब तक
क्या गुनाह किया था मैंने
जिसकी सजा मिली है मुझको

दुहाई है दिलवालो को अपने दिल की दिल जोड़कर ना तोड़े फिर कभी
टूटे दिल के तारो को जोड़कर
इश्क का नया सरगम सजायें
प्यार के सुर हो और
सुनने वाला दिल हो वहां

इक तमन्ना है मेरी
दुनियां दिल की आबाद हो
फिर कहीं रोशन इश्क का चिराग़ हो
रोशनी प्यार की लहराये सागर-जहां में बिनमोल दिल-बाज़ार में आकर
ग़म दूर हो जायें दिल के

दिल दे दिल ले
ऐसा व्यापार विनिमय हो दिल का
प्यारा इक संसार हो दिल का

जहां सिर्फ प्यार ही प्यार हो
बस सिर्फ प्यार ही प्यार हो ।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
*** छलछला गयी है आँखे ***
छलछला गयी है आँखे क्यूं ना अब तूं दिल में झांके प्यार प्यात प्यार क्या है ये यार यार छलछला गयी है आँखे क्यूं ना... Read more
*  कहने वाले मिले हैं मुझसे *
प्रारम्भिक बोल आज की दुनियां में प्यार की बात करते हैं लोग दुनियादारी की तरह पर प्यार करने वालो के लिए यह बात वियोग की... Read more
## पुरानी याद ..डाकिये की ##
ज़माना बीत गया, तो तुमने याद न किया हम ने तो रोजाना डाकिये से पूछा था की, कहीं गलती से, लिख दिए हों दो हर्फ़... Read more
** वाह दिल हमारा हो गया **
वाह दिल तुम्हारा हमारा हो गया क्यूं मिलूं तुमसे किसी बहाने से डर लगता क्यूं तुम्हें जमाने से रूबरू होकर समझते नहीं दिल एक ठोकर... Read more