.
Skip to content

सिर्फ तुम/मंदीप

Mandeep Kumar

Mandeep Kumar

गज़ल/गीतिका

October 23, 2016

सिर्फ तुम/मंदीपसाई

तारो में तुम
फिजाओ में तुम
हो चाँद की चादनी में तुम।
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
बागो में हो तुम
बहरों में हो तुम
फूलो की खुशबुओं में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
रास्तो में हो तुम
गलियो में हो तुम
सड़क के हर मोड़ हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~
मेरे हर अर्फ में हो तुम
मेरे हर शब्द में हो तुम
मेरी भाषा में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी जुबा पर हो तुम
मेरी आँखो में हो तुम
मेरी आँसुओ में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरी महबूबा हो तुम
मेरी प्रेमिका हो तुम
और मेरा दिलबर भी तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरी कविता में हो तुम
मेरी गजल में हो तुम
मेरी कहानी में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरा मान हो तुम
मेरा अरमान हो तुम
मेरा सपना हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी सोच में हो तुम
मेरी बातो में हो तुम
मेरी कल्पना में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी ऋतू हो तुम
मेरी परी हो तुम
मेरा साई भी हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे पास हो तुम
मेरे खास हो तुम
मेरे हमेसा साथ हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे हाल में हो तुम
मेरे दुःख में हो तुम
मेरे सुख में हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे जहन में हो तुम
मेरे दिमाग में हो तुम
मेरे दिल में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी सासों में हो तुम
मेरी रूह में हो तुम
मेरे मन में हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरी आन हो तुम
मेरी सान हो तुम
मेरा मान हो तुम।
~~~~~~~~~
~~~~~~~~~
मेरी आस हो तुम
मेरा साहस हो तुम
मेरा होसला हो तुम
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे दिन में हो तुम
मेरे कल में हो तुम
मेरे आज में हो तुम
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे काल में हो तुम
मेरे वर्तमान में हो तुम
मेरे भविष्य में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
मेरा शिव हो तुम
मेरा राम हो तुम
मेरा ठाकुर भी हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~
मेरी आत्मा हो तुम
मेरी परमात्मा हो तुम
मेरा परमेश्वेर हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे जीवन में हो तुम
मेरे मरण में हो तुम
मेरे अंत में हो तुम।

मंदीपसाई

Author
Mandeep Kumar
नाम-मंदीप कुमार जन्म-10/2/1993 रूचि-लिखने और पढ़ाने में रूचि है। sirmandeepkumarsingh@gmail.com Twitter-@sirmandeepkuma2 हर बार अच्छा लिखने की कोशिस करता हूँ। और रही बात हम तो अपना दर्द लिखते है।मेरा समदिल मेरे से खुश है तो मेरी रचना उस के दिल का... Read more
Recommended Posts
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more
मेरी हर नज़्म की शुरुआत हो तुम
पानी में घुलनशील जैसी कोई पदार्थ हो तुम मेरे दिल में बसी मेरे जज़्बात हो तुम मेरा दिन मेरा रात हो तुम खिलखिलाते फूलों की... Read more
हाँ तुम! बस तुम!
झरनों के संगीत में हो तुम नदियों के हर गीत में हो तुम सूरज की चाहत में पागल सूरजमुखी की प्रीत में हो तुम हाँ... Read more
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो बहती हुई फ़िज़ाओं के एहसास में भी तुम... Read more