सियासी दांव पेंच

फैला के नफ़रतें प्यार के पैगाम न आएंगे
लगा के आग दिलों मे भी आराम न आएंगे
*********************************
सेकते हो तुम अक्सर यूं ही सियासी रोटियाँ
हर दफ़ा ये दाव पेंच सियासी काम न आएंगे
*********************************
कपिल कुमार
25/07/2016

1 Comment · 16 Views
From Belgium
You may also like: