सिन्धु और साक्षी, देश की बेटी

?????
हुआ ऑलंपिक खेल समाप्त,
आया पदक सिर्फ बेटी के हाथ ।

पी वी सिन्धु और साक्षी ने
रखी अपने देश की लाज ।

ऑलंपिक में पदक जीत कर
बेटियों ने संपूर्ण निराशा से बचा लिया ।

सम्पूर्ण देश को इस समय
भावुक उन्माद से भीगा दिया ।

भारत माता की शान में
बेटियों ने तिरंगा फहरा दिया ।

दो – दो पदक जीत कर
भारत का विश्व में मान बढ़ा दिया ।
?????
हुआ ऑलंपिक खेल समाप्त,
आया पदक सिर्फ बेटी के हाथ ।
?????
जहाँ घर से बाहर तक
वर्चस्व था पुरुषों का,

वहाँ बेटी ने दिया जबाब
उसके सवालों का ।

मत मारो इसे अब गर्भ में
है अधिकार इसे भी जीने का ।

इतिहास गवाह है, बेटी ने
सदा मान बढ़या है धरा का ।

आज फिर नजर आया देश को
सिन्धु और साक्षी में रूप झाँसी का ।
?????
हुआ ऑलंपिक खेल समाप्त,
आया पदक सिर्फ बेटी के हाथ ।

पी वी सिन्धु और साक्षी ने
रखी अपने देश की लाज ।
?????
—लक्ष्मी सिंह

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 127

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share