.
Skip to content

सिचवेशन कविता

guru saxena

guru saxena

कविता

July 30, 2017

वर्षा की फुहार :-सिचुवेशन-:
एक नायिका बारिश में भीग रही है उसे देखकर देश के चर्चित कवियों की काव्य मय अभिव्यक्ति क्या होगी मैंने लिखते हुए कविता का आनंद लिया आप पढ़ते हुए लीजिये।
आज के कवि हैं विश्व विख्यात कवि श्री सुरेन्द्र शर्मा जी☆☆☆

वर्षा की फुहार
शर्मा जी या बावली क्यूँ सड़क पे भीग री है।
थें थांकी छतरी सूं इने भीगण से बचाल्यो।
कम से कम एक धरम को काम करके थोडो घणो पुण्य थें भी कमाल्यो।
शर्मा जी बोल्या रे सक्सेना क्यूँ छन्द छोड़ के छल छन्द में फस्या रियो है।
जबर जस्ती कीचड़ में धस्या रियो है।
फट्या में पग म्हारो फंसवा के ग़च्चो खिलवावेगों।
वा जकड़ लेगी तो फेर मन्ने कुण बचाबेगो।

गुरू सक्सेना, नरसिंहपुर

Author
guru saxena
Recommended Posts
कवि कविता नहीं लिखता है
कवि कविता नहीं लिखता है कविता तो बन जाती है शब्द बाण जब टूट पढ़े तो तो भाषा बन जाती है कवि कविता नहीं लिखता... Read more
कविता
???? विश्व कविता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ???? माँ सरस्वती का आशीर्वाद है -कविता। कवि की आत्मा का नाद है —कविता। आलौकिक सृष्टि का सौंदर्य... Read more
"लघु कविता" ------------------- नये घाव की क्या है जल्दी पुराना तो भरने दो अभी उमर है जो भी बाकी मिल जायेगा नसीब में घाव ही... Read more
कविता क्या होती है...?
कविता क्या होती है.....? इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता मुझे नहीँ पता...........! कहते हैँ कवि गण- कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज, कविता... Read more