31.5k Members 51.8k Posts

सिखाए कोरोना

Jan 11, 2021 11:17 AM

सिखाए कोरोना

सपनों में भी अब डराए कोरोना,
जीवन को पल पल हराए कोरोना |
अपनों से अपने शिकायत थे करते,
बिछड़े थे अपने मिलाए कोरोना |
अब भी है इंसान हाथों में उसके,
जीना है कैसे सिखाए कोरोना |
मिलते हैं अपने कहाँ बाज़ारों में,
रिश्तों की क़ीमत बताए कोरोना |
धरती को देखो किया कितना मैला,
अब तो है खुद ही बचाए कोरोना |
आहट को समझो अभी तो हे प्यारे,
जीवन की राहें सुझाए कोरोना |
हस्ती है तेरी जहाँ में क्या यारा,
क्षण भर में सबको मिटाए कोरोना |
हरि सुमिरन कर मिलेगी वो मंज़िल,
वो ही ज़ब चाहे मिटाए कोरोना |

स्वरचित एवं मौलिक : राम किशोर ” राम
शहर – पठानकोट, पंजाब |

Voting for this competition is over.
Votes received: 120
26 Likes · 65 Comments · 652 Views
Ram Kishor
Ram Kishor
Dinanagar
1 Post · 652 View
मैं राम किशोर " राम " पंजाब से हूँ, मैं भारतीय सेना से सेवा निवृत...
You may also like: