.
Skip to content

सिंदूर: एक रक्षक

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

कविता

November 13, 2017

सिंदूर: एक रक्षक
// दिनेश एल० “जैहिंद”

कवि – एकनिष्ठता का द्योतक सिंदूर
पतिव्रता का पोषक सिंदूर ।
सिंदूर रचता सकल परिवार
स्त्री–लाज का रक्षक सिंदूर ।।

सुहागन – है नहीं उधार का सिंदूर
है नहीं चुटकी भर सिंदूर ।
ये मेरे जीवन की ज्योति
है मेरा सम्मान ये सिंदूर ।।

अभागन – हूँ मैं इस जीवन से मजबूर
थक – हारकर चकनाचूर ।
किन पापों की सजा है मेरी
क्यूँ मैं हूँ इस सिंदूर से दूर ।।

कवि – कर लिये सारे सिंगार
सिंदूर बिन सब बेकार ।
सिंदूर कोई चीज नहीं
है नारी – जीवनोद्धार ।।

सुहागन – भ्रमित नारी भूल रही क्यों
कौन–सा सुख कहाँ ढूँढ रही यों ।
ऐसा सुख नहीं कहीं धरा पर
घुला सुख सुहागन होने में ज्यों ।।

अभागन – मेरा जीवन अभिशाप बना
सबकी नजरों में पाप बना ।
मैं अभागन जीवन अभागा
बिन सिंदूर अब संताप बना ।।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
09. 09. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
[[[[ विवाह जरूरी ]]]]
(((( विवाह जरूरी )))) @ दिेनेश एल० "जैहिंद" बिन विवाह के लगती है यह सृष्टी अधुरी || ब्याह के बंधन में बँधकर होती सृष्टी पूरी... Read more
फौज यहां लड़ती है , नेता श्रेय लेते हैं ! शीश जहां झुकना हो , मुंह को फेर लेते हैं !! विरोधी विरोध करे ,... Read more
चाँद मेरा
चाँद जो हर पल दिल मेरे उगता है सबसे प्यारा मुझको है तम से घिरे दिल में जो मायूसी है जगमगाहट फैलाकर हर रोज सदाबहार... Read more
तमन्ना है मेरे दिल की
?????? तमन्ना है मेरे दिल की एक आखिरी इजहार हो जाये। दुनिया से जाते वक्त आँखों को तेरा दीदार हो जाये। जुबां खामोश हो मेरी... Read more