.
Skip to content

सिंगार जब करती

डॉ मधु त्रिवेदी

डॉ मधु त्रिवेदी

गज़ल/गीतिका

September 3, 2016

सिंगार जब करती , आयना दुबकता है
उतर जमीं पर ये चाँद , आह भरता है

दिखे मुझे वह जैसे , हो अप्सरा सी कोई
जरा नजर भर देखूँ ,तो दिल मचलता है

बना है आशिक तेरा , न भूल पाये अब
ये रात दिन बस केवल , तुझे ही भजता है

नही पता मुझसे आज , वो रूठी क्यों है
उसे मना कर जी लूँ , जिया तड़पतां है

ये दिल नहीं लगता , जो न पास तू होती
विरह में व्याकुल दिल , याद में सुलगता है

Author
डॉ मधु त्रिवेदी
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र... Read more
Recommended Posts
दिल
धड़कने धड़क ने से बनती नहीं है दिल, दिल को पूर्ण करती है जज्बातों की गठरी , जैसे आकाश की शून्यता पुरी करती है सूरज,... Read more
शायरी :-- मुराद पूरी नहीँ हुआ करती !!
शायरी :-- मुराद पूरी नहीं हुआ करती !! यूँ तो दिल की मुराद हमेशा पूरी नहीँ हुआ करती ! क्योंकि हर माँगी मुराद नूरी नहीं... Read more
मुक्तक
मेरी शाम जब तेरा इंतजार करती है! तेरी याद को दिल में बेशुमार करती है! खुली हुयी सी रहती हैं हसरतों की बाँहें, ख्वाहिशों को... Read more
दिल साफ़ होणा चाहिदा
मुझे आकाश में उड़ना नहीं है मैं कोई परिंदा तो हूँ , नहीं बस एक इंसान हूँ जो यह जानता हूँ कि दुनिया मुँह देख... Read more