साहिलों ने हमें सूखी हुई.........

साहिलों ने हमें सूखी हुई नदी समझा;
हमको हर दौर ने गुजरी हुई सदी समझा।

बोझ एहसास का जब हमसे उठाते न बना;
बात इतनी थी ज़माने ने त्रासदी समझा।

फिर से वैदेही के विश्वास को वनवास मिला;
फिर प्रशासन के दु:शासन ने द्रौपदी समझा।

ग़म की मय ढलती रही उम्र के पैमाने में;
गोया किस किस की कहें सबने बेखुदी समझा।

यूँ तो हर चेहरे थे चस्पां थे इश्तिहार बहुत;
बात मुद्दे की जो समझा तो “आरसी” समझा।

-आर.सी. शर्मा “आरसी”

2 Comments · 21 Views
गीतकार गज़लकार अन्य विधा दोहे मुक्तक, चतुष्पदी ब्रजभाषा गज़ल आदि। कृतिकार 1.अहल्याकरण काव्य संग्रह 2.पानी...
You may also like: