.
Skip to content

साहस अभाव

Dr. umesh chandra srivastava

Dr. umesh chandra srivastava

गीत

July 14, 2017

…. गीत ….

” साहस अभाव ”
साहस अभाव में सुजनों के
दुष्टों का साहस पलता है
हों असुर अधर्मी धरनी पर
उनका दुःशासन छलता है
आदर्श धर्म में बिंधकर हम
क्यों दानवता को झेल रहे ?
आतंक व्याप्त कर रक्त पात
वे मानवता से खेल रहे
धर छद्म रूप भर अहंकार
निर्मम निर्दयी किलकता है ।
साहस अभाव ……………..।।
क्यों चीख रहे कर त्राहि माम ?
तुम स्वयं नहीं कुछ कर पाये
. बन मूक बधिर क्यों सोच रहे ?
वह कृष्ण ! पुनः भू पर आये
अपमानित होकर बैठे हो
क्यों भुज बल नहीं मचलता है ?
साहस अभाव ………………..।।
जीवित रखनी यदि मानवता
हाथों में शस्त्र उठा लो तुम
प्रतिकार अग्नि की ज्वाला में
दानवता सहज जला दो तुम
जब एक क्षत्र बलवान बनें
तब मानव- दीपक जलता है
साहस अभाव ……………..।।

डा. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव
लखनऊ

Author
Dr. umesh chandra srivastava
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India
Recommended Posts
......साहस अभाव.....
साहस अभाव में सुजनों के , दुष्टों का साहस पलता है । हों असुर अधर्मी धरनी पर , उनका दुःशासन छलता है ।। आदर्श धर्म... Read more
विडंबना
क्यों कविता पर पहरे लगते?क्यों गीत को कारावास मिले? क्यों सियाराम सतचिदानंद को अनचाहा बनवास मिले? यह यक्षप्रश्न सा मचल रहा है मन के मानसरोवर... Read more
बोझ गधा ही ढोता क्यों है?
शेर नहीं मुँह धोता क्यों है? बोझ गधा ही ढोता क्यों है? मानव मानव का दुश्मन बन बीज जहर के बोता क्यों है? मनमानी मन... Read more
समय मिला तो गरीबो को मिटाने का साहस करूँगा
एक दिन मै सफर पर जा रहा था। एक भिखारी भीख माँग रहा था। मैने पूछा - भीख क्यों मांग रहे हो भइय्या। श्रम करके... Read more