मुक्तक · Reading time: 1 minute

*सावन*

सावन की है छटा निराली
छाये सभी और हरियाली
बागों में अब झूला झूलें
सब के मुख पर आयी लाली
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

25 Views
Like
You may also like:
Loading...