सावन

सावन भादो तुम जरा ,बरसो दिल के गाँव
तपन जरा इसकी हरो , बादल की दो छाँव
बादल की दो छाँव,थके गम सहते सहते
सूख गए हैं अश्क,सभी अब बहते बहते
दिल को है विश्वास , खिलेंगे अपने तन मन
खुशियों की बरसात, करेगा जब ये सावन

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Comments · 58 Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: