शेर · Reading time: 1 minute

सावन-भादो

सावन-भादो बीत गये, तुम न आये परदेसिया
कब से बांट निहार रही हूँ, कब आओगे साजना
शीला गहलावत सीरत
चण्डीगढ़, हरियाणा

2 Likes · 175 Views
Like
226 Posts · 32.9k Views
You may also like:
Loading...