Skip to content

सावन ( दोहा छंद )

Ashok Kumar Raktale

Ashok Kumar Raktale

दोहे

July 27, 2016

काँपी रह-रह घाटियाँ, आया विकट असाढ़ |
थर्राए गिरि देख कर , लाया ऐसी बाढ़ ||

सावन जहँ गाने लगा, रह-रह राग मल्हार |
अँगड़ाई लेती दिखीं , तहँ नदिया की धार ||

किश्ती भी उत्साह से, दिखी तरबतर खूब |
चिंता में है वक चतुर , कहीं न जाएं डूब ||

कुदरत ने तन पर मले, सावन के जो रंग |
हर्षित हरियायी दिखी , धरा नवांकुर संग ||

झरनों की किलकारियां, खींच रहीं हैं ध्यान |
गाता है सावन जहाँ , लेकर लम्बी तान ||

मेघ गर्जना से कहीं , दादूर करते शोर |
कहीं उतरकर वृक्ष से, नाच रहा है मोर ||

मुख कलियों का चूमती, बारिश की जल बूँद |
तीक्ष्ण शूल को देखकर , रही नयन अब मूँद ||

~ अशोक कुमार

Author
Recommended Posts
बेटियाँ
बेटियां हर्ष का कारण है बेटियो से हर्षित आंगन है बेटियां जन्म जब लेती है हो जाता घर ये पावन है जब घर छोडकर विदा... Read more
मैं  सावन  का  मेघ बनूँगा
मौसम से रूठे बादल को फिर से नहीं बुलाऊंगा , मैं सावन का मेघ बनूंगा और तुझे नहलाऊँगा . साँसों में पुरवाई बहती आहों में... Read more
सावन
शिर्षक=सावन मुझको भी कुछ अब कहने दो। ये जो सावन है इसे रहने दो। बरखा सा मैं भी तो बरसा था। उनके भी सितम अब... Read more
सौगातें  ...
सौगातें ... सावन की रातें हैं सावन की बातें हैं l ...सावन में भीगी सी चंद मुलाकातें हैं l ......इक दूजे में सिमटे वो भीगे... Read more