सावन के झूले

सावन के झूले
// दिनेश एल० “जैहिंद”

आओ सखियों ! झूला झूलें,
पेंग बढ़ाकर नभ को छू लें ।
चलो चलें हम जी भर खेलें,
झूम-झूम खूब मज़े ले..लें ।।

आओ करें खुद की मनमानी,
अनसुनी करें ओरों की बानी ।
झूला झूलने को हमने ठानी,
आज हो जाए हमसे नादानी ।।

चलो चलें अब झूला डालें,
झूल-झूल कर मस्ती पा-लें ।।
झूम-झूम कर कजरी गालें,
गीत सावन के गुनगुना लें ।।

बूँदें बारिश की हमसे बोले,
मन की हमरे राज़ जो खोले ।।
पायल, चूड़ी खनके, डोले,
बोले…खेलो सावनी हिंडोले ।।

=== मौलिक ====
दिनेश एल० “जैहिंद”
28. 06. 2017

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 761

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share