सावन के झूले

सावन के झूले
// दिनेश एल० “जैहिंद”

आओ सखियों ! झूला झूलें,
पेंग बढ़ाकर नभ को छू लें ।
चलो चलें हम जी भर खेलें,
झूम-झूम खूब मज़े ले..लें ।।

आओ करें खुद की मनमानी,
अनसुनी करें ओरों की बानी ।
झूला झूलने को हमने ठानी,
आज हो जाए हमसे नादानी ।।

चलो चलें अब झूला डालें,
झूल-झूल कर मस्ती पा-लें ।।
झूम-झूम कर कजरी गालें,
गीत सावन के गुनगुना लें ।।

बूँदें बारिश की हमसे बोले,
मन की हमरे राज़ जो खोले ।।
पायल, चूड़ी खनके, डोले,
बोले…खेलो सावनी हिंडोले ।।

=== मौलिक ====
दिनेश एल० “जैहिंद”
28. 06. 2017

Like Comment 0
Views 607

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing