Jul 26, 2017 · गीत
Reading time: 1 minute

सावन की मल्हार

???????
* मल्हार *
———-
अब कै तौ बिछुड़े , भायेली जानै कब मिलें जी ।
ऐजी चलौ झूलिंगे ,बागन में झूला डार ।।
अब कै तौ बिछुड़े…….

हम धान की पौध सी हैं बहना ,
जाने कहाँ उगना कहाँ पै रुपना ,
कोऊ नाय जानै , भायेली जाने को फलै जी ।
ऐजी पत राखै है ,हमारी करतार ।।
अब कै तौ बिछुड़े……1)

हम अमर बेल सी बेल सखी ,
जाने कौन के आँगन जाय छवीं ,
बेल बिना जड़ , जाने कब लौं चलै जी ।
ऐजी देवी मैया नै ,सम्हारी पतवार ।।
अब कै तौ बिछुड़े…..2)

हम बागन की हैं चिड़िया सी ,
उड़ जाँय कहूँ गौरैया सी ,
बिछुडें तौ जियरा ,दिवरा सौ जलै जी ।
ऐजी पल्लौ थामै है ,हमारौ भरतार ।।
अब कै तौ बिछुड़े…..3)

हम वृन्दा कौ बिरवा या घर,
पर सेवा धरम बनै वा घर,
छूटै है पीहर , मन कूँ ना खलै जी ।
ऐजी मन में फूटैं हैं ,सुधा सी रसधार ।।
अबकै तौ बिछुड़े …..4)

हम उड़ती सी नभ की पतंग,
ठुमकैं हैं नाचें डोर संग,
मुड़ैं हैं उती कूँ , जित ठुमकी हलै जी ।
ऐजी बन कै छावैं हैं ,रँगीली रे बहार ।।
अब कै तौ बिछुड़े……5)

महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
*****
???????

120 Views
Copy link to share
mahesh jain jyoti
82 Posts · 2.8k Views
Follow 3 Followers
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ... View full profile
You may also like: