सारा ही जग तप रहा

सारा ही जग तप रहा , खिली हुई यूँ धूप
अमलतास का पर हुआ , सोने जैसा रूप
सोने जैसा रूप, दहकता भी गुलमोहर
धरती का श्रृंगार , कर रहे मिलकर सुन्दर
मगर अर्चना आज आदमी गम का मारा
मौसम की खा मार , बिगड़ता जीवन सारा

डॉ अर्चना गुप्ता

28 Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: