.
Skip to content

साया

Rajeev 'Prakhar'

Rajeev 'Prakhar'

कविता

June 12, 2016

हरे-भरे इक पेड़ से मिलती,
हमको शीतल छाया है l
लगता ऐसा, सर पर अपने,
बाबूजी का साया है l
हरे-भरे इक पेड़ से मिलती …l

भोर भयो, पातों का गुंजन,
दे जाता है मीठे गान l
मानो बापू सुना रहे हों,
भजन सुरीला लेकर तान l
मुस्काते हरियाले पन में,
उनका रूप समाया है l
लगता ऐसा, सर पर अपने,
बाबूजी का साया है l
हरे-भरे इक पेड़ से मिलती …l

कभी-कभी नोकीले गाँठे,
चुभन सजीली बाँट रहे l
मानो बच्चों की गलती पर,
बापू उनको डाँट रहे l
आँधी, बारिश और तपन से,
इसने हमें बचाया है l
लगता ऐसा, सर पर अपने,
बाबूजी का साया है l
हरे-भरे इक पेड़ से मिलती …l

यह जीवन नश्वर है प्यारे,
ऐसा भी दिन आएगा l
जब यह छाया देता-देता,
गोद धरा की पाएगा l
यही सोच इक नन्हा पौधा,
घर में आज लगाया है l
लगता ऐसा, सर पर अपने,
बाबूजी का साया है l

हरे-भरे इक पेड़ से मिलती,
हमको शीतल छाया है l

(मेरी उपरोक्त रचना,’दैनिक जागरण’ के वृक्षारोपण परिशिष्ट में भी हाल ही में प्रकाशित हो चुकी है)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Author
Rajeev 'Prakhar'
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.
Recommended Posts
II पेड़ों का साया II
कुछ तो कदर करो ,दुनिया में लाने वालों की l बहुत पछताएगा जब ,सिर पर ना साया होगा ll आसान नहीं होता ,दुनिया का सफर... Read more
दिल की बात
दिल की बात जुबां पर आ कर क्यों रह गई ? कह सकी नहीं जुबांअदाएं सब कुछ कह गई l लड़खड़ाए जुबान जो कोई बात... Read more
परिणय बंधन
विवाह अक्षत पवित्र बंधन है ,मन आत्मा ह्रदय का मिलन है l एक पथ दो राही का संगम,विवाह जन्मों का बंधन है l परिणय बंधन... Read more
II....हो सके तो टाला कर  II
जन्नत का रास्ता भी ,यही से निकलेगा l अंधेरी राह में दीपक, जलाकर तू उजाला कर ll अपने लिए तो आज तक ,एक उम्र जी... Read more