कविता · Reading time: 1 minute

सायली छंद-क्षमा

सायली छंद
—————–
क्षमा
———-
क्षमा
उत्तम भाव
जीवन में उतारिये
बड़ा होगा
व्यक्तित्व।
■■
बड़प्पन
दिखता है
क्षमा करने से
करके देखिए
सूकून भाव।
■■
सीखिए
क्षमा करना
मान सम्मान बढ़ेगा
गुणगान होगा
आपका।
■■
दिखाता
बड़ा दिल
क्षमा करने वाला
पाने वाला
नतमस्तक।
■■
बनाता
सरल हमें
क्षमा भाव से
मन हल्का
हमेशा।
■■
विनती
क्षमा कीजिए
भूल मेरी है
बड़ा दिल
दिखाइये।
■■
भगवन
क्षमा कीजिए
अब भूल हमारी
कृत्य हमें
स्मरण।
■■
✍ सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा ,उ.प्र.
8125285921
©मौलिक,स्वरचित

1 Like · 31 Views
Like
670 Posts · 17.8k Views
You may also like:
Loading...