सामान समझते है

उन्हें देख मजबूरी मै मुश्कुरते हैं लोग,
वो उसे ही अपना सम्मान समझते हैं।
औरों की मजबूरी का उडाते है मजाक,
ऊँची बातें करना अपनी शान समझते हैं।
इंसानों वाली कोइ बात नहीं उन मै ,
फिर भी खुद को वो भगवान समझते है।
कुछ लोग यूंही उनका नाम ले लेते है,
बस उसी को अपनी पहचान समझते है।
चंद लोग उनकी तारीफ करते होंगें,
उन्हीं की महफ़िल को सारा जहान समझते है।
लानत ऐंसे लोगोपे जो अपनी बेटी को बेटी,
और दूसरों की बेटियों को सामान समझते हैं।
रचनाकार÷ जितेंद्र दीक्षित
पडाव मंदिर साईंखेड़ा

113 Views
Jitendra Dixit
Jitendra Dixit
12 Posts · 1.2k Views
कविता मेरे लिये एक रिश्ता हैं जो मेरे और आप के दरमियाँ हैं। अपना दर्द...
You may also like: