23.7k Members 49.8k Posts

सामने सच के चुप राहाहूँ मैं

सामने सच के चुप रहा हूँ मै
झूठ के साथ पर लडा हूँ मै

मुस्कराहट भले हो चेहरे पर
रूह से पर कहीं बुझा हूँ मैं

जाएगा दूर किस तरह मुझ से
दिल में उसके बसा हुया हूँ मैं

तुमने लाँघा नही जिसे अब तक
तेरे दिल का वो दायरा हूं मै

जलजले आंधियां सभी हैं साथ
बद दुयाओं का कफिला हूँ मैं

जो कभी बेवफा नहीं होगा
मेरे हमदम वो वायदा हूँ मैं

एक कतरा न अश्क आँखों में
चूँकि पत्थर का ही बना हूँ मैं

चार पैसे अगर हों हाथों मे
सोचता वो के अब खुदा हूँ

जो ग़ज़ल को न रास है निर्मल
एक उलझा सा काफ़िया हूँ मैं

Like Comment 0
Views 30

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
निर्मला कपिला
निर्मला कपिला
71 Posts · 27.5k Views
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी],...