.
Skip to content

सापेक्षता (समकालीन कविता)

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

April 1, 2017

तुम,
आधे-अधूरे नहीं,
परिपूर्ण हो,
सम्पूर्ण हो ।
क्योंकि-
तुम्हारे पास
हाथ हैं ,
पांव हैं ,
नाक है,
कान हैं,
आंखें हैं ।
यहां तक कि-
उन्नत कल्पनाओं
को सहेजने
बाला मन भी ;
करूणा से
भरा हृदय और
अनुशासित
मस्तिष्क भी ।
फिर भी
जब-जब
देखती हैं तुम्हारी आंखें
केवल हरियाली ,
तब-तब
पतझड़ में भी
खिलते हैं वसंत के फूल ।
जब-जब
सुनते हैं तुम्हारे कान
मानवता का राग ।
तब-तब
झूम उठती है प्रकृति
और भाग जाते हैं
अप्रत्याशित भय
जीवन के ।
जब-जब
संपन्न करते हैं
तुम्हारे पांव
“दाण्डी-यात्रा” ।
तब-तब
कुछ निश्चिंत-सी
हो जाती है
यह धरती ।
जब-जब भी
तुम्हारा हृदय
करता है
सच्चा पश्चाताप
” कलिंग के बाद ” ।
तब-तब
समुद्र को भी
होने लगती है
ईर्ष्या तुमसे ।
जब-जब
तुम चढ़ जाते हो
सलीब पर
सम्पूर्ण समर्पण से ।
तब-तब
आकाश भी
मह़सूस़ करता है
अपना बौनापन ।
जब-जब
तुम्हारी जिह्वा
कहती है
“भज गोबिंदम् मूढ़ मते” ।
तब-तब
ज्ञान की धरती
पर भी लहलहाती है
भक्ति की मीठी फ़सल ।
जब-जब
मस्तिष्क तुम्हारा
बनता है
“आइंस्टाइन ”
तब-तब
गौरवान्वित होता है
ब्रह्माण्ड ,
अपनी ही रचना पर ।
ऐंसा
तब-तब
होता है ,
जब-जब
तुम्हारी सोच
होती है “धनात्मक” ।
क्या कभी ?
तुमने. … तुमने
या किसी ने भी
सोचा है आज तक ,
तनिक भी
गहराई से कि
तुम्हारे जीवित
होते हुए भी
जीवन से कितना
दूर ले जाती है
तुम्हें , तुम्हारी ही
” ऋणात्मक सोच “. ।

ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
आंखें
आंखें ------/- कितने सैलाब समेटे तकती रहीं आंखें तुम्हारा रास्ता बुहारती रहीं आंखें । देर से आने की खबर बरस गयी , सावन में भी... Read more
आंखें
Raj Vig कविता Mar 5, 2017
मोटी मोटी बड़ी बड़ी वो खूबसूरत आंखें सुन्दर चेहरे पे लगती वो प्यारी आंखें छलकती हुई वो आसमानी आंखें झुकती पलको मे अदा लगती कज़रारी... Read more
आंखें
।। आंखें।। बिना लफ्जों के ये करती हैं बातें अदा में सब बयाँ कर जाती आंखे। हो खुशी या गम ये सब हैं समझतीं हर... Read more
कविता लिखता हूं
_कविता_ कविता लिखता हूं *अनिल शूर आज़ाद हर बार जब-जब/तुम्हारी याद आई है/मैंने एक नई कविता/लिखी है तुम्हारे लिए गैर हो गया हूं/जानता हूं यह... Read more