23.7k Members 49.8k Posts

सात दोहे

****************************************
जीवन पथ पर जो मिले , “जय” जीवन हो जाय।
साथ-साथ, पग-पग चले , जीवनसाथी कहाय ।। 1।।

एक कृति, कई रूप “जय”, जीवनसाथी निभाय।
संस्कार, जीवन-मरण सब , रीति रिवाज चलाय ।।2।।

माता-पिता, भाई-बहन, छोड़ साथ “जय” जाय ।
सुख-दुख, तक अंतिम घड़ी , साथी छोड़ न जाय ।।3।।

एक धुरी, दो पहिए “जय”, जीवन एक चलाय ।
उतार-चढ़ाव जिवन सब , चलत निरंतर जाय ।। 4 ।।

दो शरीर एक जान “जय” , सातहि वचन निभाय ।
सातों जनम पाऊँ कहे , जीवन साथी कहाय ।। 5 ।।

अंख हाथ सम साथी है , रिश्ता अमर कहा ।
चोट हत अंख रोय “जय”, आंसू हाथ छिपाय ।। 6।।

आधा-आधा अंग अर्ध , नारेश्वर हो जाय ।
साथी का यह रूप “जय”, जग में पूजा जाय ।। 7 ।।

संतोष बरमैया “जय”
कुरई, सिवनी, म.प्र.
******************************

Like Comment 0
Views 184

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Copy link to share
संतोष बरमैया #जय
संतोष बरमैया #जय
61 Posts · 4.1k Views