*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*

कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी ,
कभी बहन तो कभी बेटी है नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

कभी फूल तो कभी शोला है नारी ,
कभी दुर्गा तो कभी काली है नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

एक सिक्के के दो पहलू हैं नर और नारी ,
बनते एक दूसरे के पूरक नर और नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

Like 3 Comment 2
Views 640

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing