.
Skip to content

*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

June 22, 2017

कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी ,
कभी बहन तो कभी बेटी है नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

कभी फूल तो कभी शोला है नारी ,
कभी दुर्गा तो कभी काली है नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

एक सिक्के के दो पहलू हैं नर और नारी ,
बनते एक दूसरे के पूरक नर और नारी ।
मत समझना नारी को कमजोर ,
साक्षात् शक्ति का रुप है नारी ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
**दुख-सुख की सिर्फ एक ही साथी** नर नहीं है वो है सिर्फ नारी
** दुख सुख में जो साथ है देती और नहीं कोई, नारी है मुश्किल से जो जूझ है जाती और नहीं कोई, नारी है **... Read more
नारी पुरूष की शक्ति
????? नर व नारी एक-दूसरे का पूरक, नारी पुरूष की शक्ति का उर्वरक। नारी बिना पुरूष जीवन अपूर्ण, नारी ही पुरूषों को करती पूर्ण। नारी... Read more
नारी का उत्थान
अन्तर्राष्ट्रीय महिलादिवस की हार्दिक बधाई नारी के उत्थान में, है नारी का हाथ देना होगा खुद उसे, नारी का ही साथ अपनी ताकत को यहाँ... Read more
नारी का मत कर अपमान
(गीतिका) छंद- आल्‍ह [विधान - चौपाई अर्धाली (16) + चौपई (15) मात्रा संयोजन- 16 // 15] नारी ***** घर की यह आधारशिला है, नारी का... Read more