कविता · Reading time: 1 minute

साकारात्मक सोच

साकारात्मक सोच सदैव ही मनुष्य को आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है। साकारात्मक सोच अपने साथ साथ दूसरों का भी भला करती है। साकारात्मक व्यक्ति हमेशा उच्च सोचता है उसके लिए कुछ भी ना नहीं होता है। वह असंभव मे भी संभावना तलाशता है।

वहीं नाकारात्मक व्यक्ति किसी भी कार्य को शुरू होने से पहले ही हार मान लेता है। उसके लिए प्रत्येक कार्य कठिन प्रतीत लगते हैं।

जीवन में आपने कई बार देखा भी होगा नाकारात्मक व्यक्ति के पास कोई फटकना भी नहीं चाहता क्योंकि वह हमेशा दुखी हैरान परेशान होगा। वहीं साकारात्मक व्यक्ति के पास सभी रहना चाहते है क्योंकि वह खुश मिज़ाज रहता है। उसके पास से साकारात्मक तरंगें निकलती हैं जो दूसरे के जीवन को भी प्रेरित करती हैं।

4 Likes · 2 Comments · 62 Views
Like
19 Posts · 885 Views
You may also like:
Loading...