साईं तेरा हमसफ़र है

साईं तेरा हमसफ़र है
फिर तुझे काहे का डर है
फिर तुझे काहे का…….

भक्ति का है वह उपासक
भक्त ही उसका शिखर है //१.//
फिर तुझे काहे का…….

जिसने भी बाबा को पूजा
वो अजर है, वो अमर है //२.//
फिर तुझे काहे का…….

है दया का साईं सागर
प्रेम ही शिरडी का घर है //३.//
फिर तुझे काहे का…….

साईं से तू लौ लगा ले
जगमगाता प्रेम दर है //४.//
फिर तुझे काहे का…….

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing