Skip to content

सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है |

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

April 24, 2017

जोब विष को पीना जाने, वह ही तो मीरा है|
मूरख के आगे, अक्ली की बोली तीरा है|
कड़क बात से सीख ग्रहण कर ले जो तज,स्व ताप|
सहज बने गह ज्ञान, वही तो सच्चा हीरा है|
……………………………………………..

2013 में प्रकाशित साहित्यकार Brijesh Nayak की (मेरी) कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” का मुक्तक

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक”कृतियों के प्रणेता

24-04-2017

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
किंतु गह सद्ज्ञानरूपी लोक लो/ वही तो नवराष्ट्र का उल्लास है
रोक सकते हो मुझे, तो रोक लो बढ़ रहा हूँ, चेतना आलोक लो काट डालो तुम हमारे अस्त्र सब किंतु गह सद्ज्ञानरूपी लोक लो चेतना... Read more
वह सु रचना देश का  सम्मान है |           छिपी हो जिसमें सजग संवेदना|
राष्ट्रहित गह दिव्यता,दे चेतना | छाँट दे जो सहज में जन-वेदना | वह सु रचना देश का सम्मान है | छिपी हो जिसमें सजग संवेदना... Read more
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी||
फुलवारी में फूलते, बहु रंगों के फूल| पवन चली,चुंबन सहित,बने प्रीतिमय चूल|| बने प्रीतिमय चूल ,सदा हँसते-इठलाते| हिल-मिलकर सद्भाव, नेह का पाठ पढ़ाते|| कह "नायक"... Read more
और दिव्य सद्ज्ञान,प्राप्तिहित गुरु-गुण गह जन
जन गह कर ज्ञ-उच्चता, बने नेह-सद्हर्ष | देव-तुल्य सम्मान का, छू ले वह उत्कर्ष || छू ले वह उत्कर्ष ,बोधमय शुभ सूरज बन| पकड़ सघन... Read more