.
Skip to content

‘सहज’ के दोहे

DrMishr Sahaj

DrMishr Sahaj

दोहे

February 9, 2017

जीवन है अनमोल यह, इसको नहीं बिगाड़.
यह है दुर्लभ से मिला,समझ नहीं खिलवाड़.

सोच सार्थक हो सदा,दिन कैसे भी होयँ.
निश्चित काटेंगे वही, जो खेतों में बोयँ.

सदा सफलता के नियम,रहें अटल ले मान.
इसी लिए तू कर जतन,छोड़ सभी अभिमान.

आवश्यकता ठीक है, इक्षा का क्या अंत.
सब उस पर ही छोड़ दे, उसकी शक्ति अनंत.

‘सहज’सीख ले पाठ तू,रहे मगन हर हाल.
समय बड़ा बलवान है, मत बांधे पुल-पाल.
000
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित.

Author
DrMishr Sahaj
Recommended Posts
ऐ मौत ??
तुझ को न समझ पाया कोई आज तक !! कि तू आती कब है, और ले जाती किधर है सब कुछ तो हाईटेक हो गया,... Read more
*सीख*
ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता... Read more
*विधाता छंद*मापनी-1222 1222 1222 1222
ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता... Read more
तू आगे बढ़
कर साहस भर उमंग आगे तू बढ़, मुश्किलो को कर पार तू जीत गढ़, राह की बाधाओं को चूम तू पहाड़ चढ़, हार नहीं ला... Read more