23.7k Members 49.9k Posts

सवैया छंद

कभी भी नहीं छोड़ना हाथ माते , करें प्रार्थना मान लीजे हमारी ।
बचा लो हमें घेरने आ रही है , शिकारी बनी मात माया तुम्हारी ।।
हमें बुद्धि दो ज्ञान दो माँ भवानी , थमा दो हमें लेखनी की दुधारी ।
जियें छंद में लीन हो के सदा ही, कृपा कीजिये मात कल्याणकारी ।।
-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

Like Comment 0
Views 63

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
mahesh jain jyoti
mahesh jain jyoti
Mathura
71 Posts · 2.4k Views
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ...