Jul 12, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

सवैया छंद

कभी भी नहीं छोड़ना हाथ माते , करें प्रार्थना मान लीजे हमारी ।
बचा लो हमें घेरने आ रही है , शिकारी बनी मात माया तुम्हारी ।।
हमें बुद्धि दो ज्ञान दो माँ भवानी , थमा दो हमें लेखनी की दुधारी ।
जियें छंद में लीन हो के सदा ही, कृपा कीजिये मात कल्याणकारी ।।
-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

119 Views
Copy link to share
mahesh jain jyoti
82 Posts · 4.1k Views
Follow 3 Followers
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ... View full profile
You may also like: