.
Skip to content

सवेरा

Shubha Mehta

Shubha Mehta

कविता

November 11, 2016

उठो ,जागो मन
हुआ नया सवेरा
आ गए आदित्य
लिए आशा किरन नई
रमता जोगी
गाए मल्हार
झूम रहे खग वृंद
नाचे गगन अपार
कलियाँ चटक उठीं,
चटक कर
करा रहीं
नव सृजन का आभास
हरी दूब पर
ओस बूँदों ने
टाँक दिये हों
मोती हार
पक्षियों का मीठा कलरव
जगा रहा है बार -बार
उठो, जागो मन
हुआ नया सवेरा ।

Author
Shubha Mehta
Recommended Posts
उठो उठो मेरे जागो बेटा
उठो उठो मेरे जागो बैटा मेेैया बुलाया करती है| हुआ सबेरा मुर्गा वोला,चिडियाँ कू-कू करती है|| सूरज की किरणे भी यारो बिखरा बिखरा करती है|... Read more
एक शुद्ध सवेरा
आज मिली मुझे एक शुद्ध सवेरा, ठंडी हवा का झोंका नर्म धूप सुनहरा; खुशबु बिखेरता फूल चारों तरफ हैं खिला, चिड़ियों की चहचहाटें मन को... Read more
सवेरा
नये वर्ष का एक नया सफर है बीते गम अब खुशियों की लहर है अपनो के दिलों मे प्यार का पहरा जीवन के रंगों का... Read more
नई सुबह
भोर हुई लो भोर हुई रश्मियों ने डाला डेरा सूर्य देवता का हुआ पग फेरा चंचल चिड़िया चहक उठीं पुष्प वाटिका महक उठीं मन मुग्ध... Read more