.
Skip to content

सरिता

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 14, 2017

” सरिता ”
————-

हाँ !
मैं ही तो हूँ !
सतत् तरंगित और
नि: शब्द-सी प्रवाहित
सरिता |
शीतल जल-सा…….
‘स्नेह’ प्रवाहित होता है
निर्मल अनुभूति के साथ
मेरे अंतस में ||
मेरे नीर में भी….
ममता !
स्नेह !
समर्पण !
त्याग !
निष्ठा !
कर्तव्य !
और विश्वास
तैरते रहते हैं ……
प्लवक बनकर
और समृद्ध करते हैं
मेरी थाति को ||
वह थाति !!
जो बनाती है मुझे !
नारी !
सृजना !
और अन्नपूर्णा ||
—————————-
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मैं बादल हूँ
मैं बादल हूं ,तुम मेरी सरिता। मैं शायर हूं ,तुम मेरी कविता । तुम खुदा हो ,सबसे जुदा हो। तुम मेरे कुरान, तुम्हीं मेरे गीता... Read more
स्नेह-बदली
"स्नेह-बदली" ----------------- स्नेह-बदली तुम बनकर बरसो ! मेरे हृदय-आकाश में ! कभी बरसो तुम ! सावन में ! और कभी बरसो मधुमास में || मौहब्बत... Read more
एकाकार
"एकाकार" --------------- एकाकार हुए है देखो ! कितने सुन्दर ? वृक्ष विशाल | खो रही जो .... प्रीत की थाति ! जला रहे ! उसकी... Read more
23 वीं वर्षगांठ
rekha rani गीत May 19, 2017
दीपक बाति बनकर हम तुम घर -मन्दिर को प्रकाशित करेंगे। तुम दीपक में प्रेम का घृत बन,बाति बन मैँ समर्पण करेंगे। जब तक स्नेह का... Read more