सरस्वती वन्दन

हे श्वेताम्बरा स्वर दे
हर गुण मुझमें भर दे
बुराइयों से रहित कर दे
साहित्य संगीत – कला सहित कर दे

कर दे हमको नित्य-नवीन
हो जाएं कलाओं में हम प्रवीन
नए नित ज्ञान का प्रयोग करें
नूतन प्राचीन का संयोग करें

हे हंसवाहिनी पुस्तकधारिणी
जगकल्याणी,
मेरा उद्धार करो
अब तो नइया पार करो ।

Like Comment 0
Views 16

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing