.
Skip to content

सरस्वती वंदना

sunil nagar

sunil nagar

कविता

March 11, 2017

तेरी वंदना करूँ मैं बार – बार माँ ,
आयो शरण तिहारी मोहे तार – तार माँ

वीणापाणि है तु वीणा सी ताल दे ,
वाणी मधुर बनाओ माँ , शब्दो को सँवार दे ,

हो ध्वनि प्रणव की , ओंकार माँ ||१||
आयो शरण तिहारी ——–

विद्यादायिनी है तु विद्या का दान दे ,
दूर करो अज्ञान तम , ज्ञान का प्रकाश दे ,
जलाओ ज्योत ज्ञान की , अखंड माँ ||२||
आयो शरण तिहारी ——-

हंसवाहिनी है तु हंस सा स्वरूप दे ,
विद्या विनय विवेक माँ , बुद्धि का वरदान दे ,
सुनील तेरा प्रार्थी है , करो ह्रदय में वास माँ , ||३||
आयो शरण तिहारी ——–|
रचनाकार – सुनील नागर

Author
sunil nagar
सुनील नागर खुजनेर राजगढ़ ( म. प्र.) एम. ए . - हिन्दी कार्य - अध्यापक हिन्दी , संस्कृत
Recommended Posts
हे माँ सरस्वती, वीणावादिनी वर दे।
????? हे ब्रह्मा की मानस पुत्री, हे विद्या के अधिष्ठात्री देवी वर दे। हे माँ सरस्वती, वीणावादिनी वर दे। मेरी हर एक भावनाओं को स्वर... Read more
माँ शारदे माँ शारदे
तू भूल मेरी कर क्षमा खुशियों भरा संसार दे माँ शारदे माँ शारदे, नादान हूँ पर प्यार दे मैं राह सच्ची पर चलूँ देना सदा... Read more
सरस्वती वंदना
हंस पे सवार माता ज्ञान का प्रसार दे माँ गले में स्वर वार माँ श्रोताओं में वाह दे।। मन में उमंग जागे संग में तरंग... Read more
जय माँ सरस्वती
हे वीणावादिनी, हे हंसवाहिनी, हे ब्रह्मचारिणी, हे वागीश्वरी, हे बुद्धिधात्री, हे वरदायनी, हे माँ शारदे, कुछ ऐसा कर दे, इस लेखनी को वर दे। .... Read more