.
Skip to content

सरस्वती वंदना

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

गीत

July 7, 2016

*सरस्वती वंदना*
सरस्वती माँ करें वंदना , हम तेरे ही बालक हैं।
दूर करो माँ वो अँधियारे, जो जीवन में बाधक हैं।

माँ निर्मल मति को कर देना, सदाचार अपनाऐं हम।
मधुर करो माँ वाणी ऐसी, सबका हिय हरषाऐं हम।
पाप कर्म से दूर करो माँ, हम तेरे आराधक है।
सरस्वती ……………………………………।।१।।

श्वेत वस्त्र है स्वर्णिम तन पर, कर में वीणा रखती हो।
सत्य स्वरूपी अंब शारदा, ज्ञान हृदय में भरती हो।
सतत ज्ञान आलोक करो माँ, हम विद्या के साधक हैं।
सरस्वती……………………………………..।।२।।

तुलसी, कालीदास, भारवी, सबने ही गुणगान किया।
कवियों ने कविता-रस पाने, तेरी ही माँ ध्यान किया।
‘इषुप्रिय’ उन दोषों को हर लो, जो चैतन्य विदारक हैं।
सरस्वती ……………………………………..।।३।।
————————————————————
इषुप्रिय शर्मा’ अंकित’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Author
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078
Recommended Posts
हे सरस्वती माँ मेरी.....
हे सरस्वती करुणामयी अनुकंपा करो माँ मेरी.... ओज भरी मधुर हो वाणी सरस हो मेरी लेखनी.... ओज भरी मधुर हो वाणी सरस हो मेरी लेखनी....... Read more
माँ के भक्त आये है
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?माँ के भक्त आये है? अरमानो को दिल मे लिए.... तेरे दर पे आये है..… पूरी करो मुरादे माँ.... चलकर पैरो पे आये है.… करुणा... Read more
सरस्वती वंदना
तेरी वंदना करूँ मैं बार - बार माँ , आयो शरण तिहारी मोहे तार - तार माँ वीणापाणि है तु वीणा सी ताल दे ,... Read more
ओ माँ, ऐ माँ, ....................|गीत| “मनोज कुमार”
ओ माँ, ऐ माँ, मेरी माँ, ओ माँ मेरी किस्मत का खजाना तू ही तू ही माँ इन आँखों की खुशियाँ रहमत तू ही माँ... Read more