.
Skip to content

सरस्वती वंदना-२ | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber

Abhishek Kumar Amber

गीत

August 28, 2016

हे विरणावादिनी मईया
मेरी झोली ज्ञान से
भर दे।
सत्य सदा लिखे कलम मेरी
मुझको ऐसा वर दे।
छल दंभ पाखंड झूठ से
हमको दूर करो तुम।
मन में भर दो अविरल ज्योति
तम को दूर करो तुम।
हे शारदे मुझ पे बस तू
ये उपकार कर दे।
मेरी झोली ज्ञान से
भर दे।
न भेद जाति धर्म का हो
न ऊँचा कोई नीचा।
सब ही तेरे बच्चे हम हैं
कर्म हमारी पूजा।
मजधार में फंसी है नैया
भव से पार कर दे।
मेरी झोली ज्ञान से
भर दे।

©अभिषेक कुमार अम्बर

Author
Abhishek Kumar Amber
नाम- अभिषेक कुमार तख़ल्लुस- अम्बर जन्म- 07 मार्च 2000 जन्मस्थान- मवाना मेरठ उत्तर प्रदेश। विद्या- हास्य व्यंग्य, ग़ज़ल, गीत , छंद आदि। अभिषेक अम्बर का जन्म 07 मार्च 2000 को मेरठ के मवाना कसबे में हुआ। प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली से... Read more
Recommended Posts
वर दे वर दे
वर दे वर दे वीणा वादिनी वर दे, भर भर दे माँ मेरी झोली तू भर दे, देना हैं तो मुझको माँ एक वर दे... Read more
सरस्वती वंदना | अभिषेक कुमार अम्बर
हे माता मेरी शारदे तू भव से उतार दे। बुद्धि को विस्तार दे ज्ञान का भंडार दे। हे माता मेरी शारदे। दूर सब अँधेरे हो... Read more
वर दे, वर दे, वर दे......
(सरस्‍वती वन्‍दना) वर दे, वर दे, वर दे..... हे वीणाधारिणी वर दे. हे हंसवाहिनी वर दे . वर दे, वर दे, वर दे..... हे निर्मल... Read more
मुक्तक
मेरी नजर से दूर तुम जाया न करो! मेरी चाहत को तुम तड़पाया न करो! तेरे लिए बेचैन हैं मेरी ख्वाहिशें, मेरे प्यार पर गमों... Read more