Skip to content

सरस्वती माँ की कृपा

Mamta Rani

Mamta Rani

कविता

February 1, 2017

सरस्वती माँ की कृपा,
बनी रहे सबपर।
विद्या और बुद्धि का हो संचार,
सरस्वती माँ की कृपा,
बनी रहे बरकरार।

माँ इसी तरह हर साल आना,
अपने साथ ढेरों खुशियां लाना।
सब के मन में सदबुद्धि लाना

सब का मन निर्मल कर दो,
है वीणावादिनी ऐसा कर दो।
सब की झोली खुशियों से भर दो।

है माँ आपकी कृपा ,
बनी रहे हमपर।
ऐसा ही उपकार करना,
सब की झोली
ज्ञान से भरना।

नाम-ममता रानी,राधानगर,(बाँका)

Author
Mamta Rani
Recommended Posts
जय माँ सरस्वती
हे वीणावादिनी, हे हंसवाहिनी, हे ब्रह्मचारिणी, हे वागीश्वरी, हे बुद्धिधात्री, हे वरदायनी, हे माँ शारदे, कुछ ऐसा कर दे, इस लेखनी को वर दे। .... Read more
माँ तेरा स्वागतम्
जय_माता_दी स्वागतम् स्वागतम् माँ तेरा स्वागतम्, आवो मेरे मन मन्दिर में माँ तेरा हैं स्वागतम्, करके सिंह सवारी माता मेरे आँगन आवो, स्वागत पुष्प बिछा... Read more
सरस्वती वंदना
हंस पे सवार माता ज्ञान का प्रसार दे माँ गले में स्वर वार माँ श्रोताओं में वाह दे।। मन में उमंग जागे संग में तरंग... Read more
माँ नियति है
" माँ नियति है " ------------------- माँ गीता... माँ कुरान है ! माँ आन-बान और शान है | माँ ममता है माँ त्याग है !... Read more