Skip to content

सरल दोहे

शैलेंद्र सरल

शैलेंद्र सरल

कविता

September 8, 2016

सुप्रभात मित्रों – (8/9/16)
शायरों के नाम एक सरल दोहा
******************************************
शायर आशिक एक से, जागें सारी रात ।
ख्वाब एक की आँख में, कलम एक के हाथ।।
*******************************************
ईश्वर व् ईश्वर तुल्य गुरुओं के सम्मान में मेरा दोहा-

गुरु गोविंद दोउ खड़े , दोनों लागूँ पाय।
एक दी मोय ज़िन्दगी, जीना एक सिखाय।।
**************************************
भरा पड़ा चहुँ और है, देखो ज्ञान अपार ।
सीखना जो चाहो तो, शिक्षक सब संसार ।।
***************************************
सप्रेम – शैलेंद्र
लखनऊ

Share this:
Author
Recommended for you