Skip to content

समुद्र मंथन

सुनील पुष्करणा

सुनील पुष्करणा "कान्त"

कविता

July 25, 2016

यदि एक बार फिर से हो जाए…
“समुद्र मंथन”
तो नहीं होगी लड़ाई “अमृत” के लिए…
अब तो लड़ाई होगी “विष” के लिए
क्यूंकि
लम्बी उम्र के आशीर्वाद भी
अभिशाप बन चुके हैं….

सुनील पुष्करणा

Share this:
Author
Recommended for you