.
Skip to content

समय सरकता जा रहा

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कुण्डलिया

February 3, 2017

समय सरकता जा रहा ,बात पते की जान l
मुट्ठी जैसे रेत की ,या गरीब का मान ll

या गरीब का मान, पान बिन कत्थे जैसा l
जगत करे अपमान, रहे पास में ना पैसा ll

छोट अमीर गरीब ,सभी समय को रोते l
होत और ही बात,जो काम समय से होते ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II  बिन कहे सब कहा......II
बिन कहे सब कहा, फिर क्या रह गया l आते आते मेरा नाम, सा रह गया ll रुक गए थे कदम ,और लव भी हिले... Read more
II....जो गाते रहे हैं....II
गमों को छुपा के जो गाते रहे हैंl अकेले में आंसू बहाते रहे हैं ll ए लैला ए मजनू किताबी जो बातें l अनाडी जगत... Read more
समय समय की बात
समय समय की बात हैl सावन में हरियाली दिखे, पतझड़ में झड़ता पात है l ै समय समय की बात है l दिवा में भास्कर... Read more
तेरा जादू मोदी
तेरा जादू मोदी बड़ा हो गया l यहां पर बखेड़ा खड़ा हो गया ll भरे नोट बोरी में सड़ते यहां l तिजोरी का ताला खुला... Read more